spirituality-गुरबाणी का पाठ करते वक्त हमारी आंखों से आंसू आने लगते है।यह एक बहुत बड़ा रहस्य है।know more about it.

1 min read
Spread the love

spirituality

DAILY DOSE NEWS

संगत जी कई बार आपने ये महसूस किया होगा की गुरबाणी का पाठ करते वक्त हमारी आंखों से आंसू आने लगते है। पाठ करते वक्त हमारी आंखों में नम होना, आंसू आना, नींद और उबासी या फिर छींक आना यह एक बहुत बड़ा रहस्य है।

ये ARTICLE आप गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सीतारामडेरा, गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी सोनारी, दुपट्टा सागर बिस्टुपुर, नागी मोबाइल कम्यूनिकेशन्स के सहायता से प्राप्त कर रहे हैं।

आंखों में आंसू दो ही वक्त टपकते हैं एक गम और एक खुशी में हैं। वैसें तो आंखों में एलर्जी और जुखाम बैगरह से भी आंखों से आंसू आने लगते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं पाठ करते वक्त आंखों से आंसू निकलने के पीछे कई रहस्य छिपे हैं।

spirituality

जमशेदपुर के एक समाजसेवी सरदार गुरदीप सिंह के अनुसार सच्चे मन से किया गया गुरबाणी का कोई भी पाठ सदैव भगवान स्वीकार करते हैं। यदि किसी व्यक्ति को पाठ करते वक्त उबासी या नींद आती हैं तो इसका अर्थ है कि उस व्यक्ति के मन में दोहरी विचारधारा सक्रिय है। उनके मन में कई विचार आ रहे हैं। यदि आप परेशान होकर भगवान की भक्ति करते है तो आपको उबासी और नींद आने लगती है।

https://t.me/dailydosenews247jamshedpur

spirituality

ਇਹ ਖਬਰ ਤੁਸੀਂ ਗੁਰੂਦਵਾਰਾ ਪ੍ਬੰਧਕ ਕਮੇਟੀ ਸੀਤਾਰਾਮਡੇਰਾ, ਗੁਰੂਦਵਾਰਾ ਪ੍ਬੰਧਕ ਕਮੇਟੀ ਸੋਨਾਰੀ, ਦੁਪਟਾ ਸਾਗਰ ਬਿਸਟੁਪੁਰ ਨਾਗੀ ਮੋਬਾਈਲ ਕਮਯੁਨੀਕੇਸੰਸ ਦੇ ਸਹਾਇਤਾ ਨਾਲ ਪਾ੍ਪਤ ਕਰ ਰਹੇ ਹੋ ਜੀ।

सरदार गुरदीप सिंह के मुताबिक, अगर गुरबाणी का पाठ करते समय आपकी आंखों से आंसू निकलते हैं तो आपको समझ जाना चाहिए कि भगवान आपको कुछ संकेत दे रहा है। क्योंकि जब आप अन्तर मन से भगवान का ध्यान लगाते हो, उससे आपका सीधा संपर्क भगवान से होता है।

spirituality

अगर पूजा पाठ करते समय आपकी आँखों से आंसू निकल आते है तो आपको समझना चाहिए की कोई ईश्वरीय शक्ति आपको कुछ संकेत दे रही है। जब आप भगवान के किसी भी रूप का ध्यान और उनकी पूजा में लीन हो जाते है तो इसका अर्थ है की भगवान के उस रूप के साथ आपका कनेक्शन हो गया है या कह सकते है की आपके द्वारा की गयी पूजा सफल हो गयी है जो आपकी खुशी को आंसू के रूप में छलकाती है।

नकारात्मकता का होना

कई बार ऐसा कहा जाता है की पूजा के समय आँखों से आने वाले आंसू या उबासी का एक कारण नकारात्मकता भी हो सकती है जब कभी हमारा मन पूजा पाठ, धार्मिक ग्रंथों और आरती में न लगे साथ ही शरीर भारी होने लगे तो ऐसे में आपको समझना चाहिए की कोई न कोई नेगेटिव एनर्जी आपके आस पास मौजूद है।

content source by: Gurdeep Singh Saluja

Jamshedpur-8229047688

www.saluja.gurdeepsingh@admin

Note-If you liked this article please than share it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *