jamshedpur-झारखंड में सिख अनुसुचित जाति को आरक्षण की सुविधा लागू करे सरकार- चंदन सिंह, अध्यक्ष, अल्पसंख्यक सिख सेवा सदनknow more about it.

1 min read
Spread the love

jamshedpur

जमशेदपुर के टिनप्लेट स्थित रिक्रिएशन क्लब

में प्रेसवार्ता के दौरान अल्पसंख्यक सिख सेवा सदन के अध्यक्ष श्री चंदन सिंह ने कहा कि अनुसुचित जाति को आरक्षण का प्रावधान लागू हुए 71 वर्ष हो चुके हैं। फिर भी देश में सिखों को अनुसुचित जाति ( मजहबी) का आरक्षण की सुविधा अब तक लागू नहीं हो सका है।

jamshedpur

जबकि देश के सात राज्यों और एक केंद्र शासित राज्य में अनुसुचित जाति को आरक्षण की सुविधा प्राप्त है। लेकिन झारखंड में सिखों के अनुसुचित जाति के लोगों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। भारत का संविधान और संसद द्वारा बनाया गया कानून पुरे भारत वर्ष में हिन्दू, सिख, एवं बौद्ध धर्म के लोगों को अनुसुचित जाति का आरक्षण देने का प्रावधान है।
उन्होंने आगे कहा कि राष्ट्पति के आदेश को संविधान अनुसुचित जाति आदेश 1950 कहा जाता है। इस आदेश के पैराग्राफ नंबर 3 में कहा गया है कि हिन्दू सिख या बौद्ध धर्म से भिन्न धर्म को मानता है उसे अनुसुचित जाति का सदस्य नहीं माना जायेगा और यह राज्य या किसी राज्य जिला या अन्य क्षेत्रीय प्रभाग के संदर्भ के रूप मे माना जायेगा।

ਇਹ ਖਬਰ ਤੁਸੀਂ ਗੁਰੂਦਵਾਰਾ ਪ੍ਬੰਧਕ ਕਮੇਟੀ ਸਾਕਚੀ, ਗੁਰੂਦਵਾਰਾ ਪ੍ਬੰਧਕ ਕਮੇਟੀ ਸੋਨਾਰੀ, ਦੁਪਟਾ ਸਾਗਰ ਬਿਸਟੁਪੁਰ ਨਾਗੀ ਮੋਬਾਈਲ ਕਮਯੁਨੀਕੇਸੰਸ ਦੇ ਸਹਾਇਤਾ ਨਾਲ ਪਾ੍ਪਤ ਕਰ ਰਹੇ ਹੋ ਜੀ।

jamshedpur

https://t.me/dailydosenews247jamshedpur

अल्पसंख्यक सिख सेवा सदन के अध्यक्ष श्री चंदन सिंह ने पूर्वी सिंहभूम के विधायक सरयू राय पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्वी विधानसभा क्षेत्र में सिख समुदाय के अनुसुचित जाति (मजहबी) की जनसंख्या सबसे ज्यादा है। और इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व विधायक श्री सरयू राय जी करते हैं। हमारी संस्था ने विधायक जी को लिखीत अनुरोध किया था कि वो झारखंड विधानसभा मे सिख समुदाय के अनुसुचित जाति को सरकार द्वारा जाति प्रमाण पत्र नहीं निर्गत कराने के संबंध मे प्रश्न करने को कहा था। पर उन्होंने इस विषय पर कोई रुचि नहीं दिखाई।

jamshedpur

चंदन सिंह ने कहा कि यदि पुरे भारत में हिन्दू धर्म के अनुसुचित जाति के लोग राष्ट्र स्तर पर सुचिबद्ध हो सकते हैं। तो सिख धर्म के अनुसुचित जाति के लोग सुचिबद्ध क्यों नहीं हो सकते। इससे यह प्रतीत होता है कि सरकार सिख समुदाय के अनुसुचित जाति के लिए गंभीर नहीं है। इस मामले पर सरकार अपनी मंशा साफ करे।

इस मौके पर अध्यक्ष चंदन सिंह के अलावा सचिव मंजीत सिंह मंजू, हवलदार गुरमीत सिंह, अमरीक सिंह अटवाल, दिलबाग सिंह, मास्टर सविंदर सिंह, दर्शन सिंह काला, पुरषोत्तम सिंह, सुखदेव सिंह सुक्खा,अमरीक सिंह, दिदार सिंह, रोहित दीप सिंह, कुलवंत सिंह, परमजीत सिंह, दिलदार सिंह उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *